UP Agriculture: किसान पंजीकरण @ upagriculture.com

UP Agriculture: उत्तर प्रदेश सरकार ने अपने राज्य के किसानों को लाभ पहुंचाने के लक्ष्य से UP Agriculture की शुरुआत की है। जिसके लिए upagriculture.com पोर्टल को विकसित किया गया है। क्योकि यूपी के किसानों को राज्य में उनके हित में संचालित योजनाओं का लाभ नहीं मिल रहा है क्योकि इसका एक सबसे बड़ा कारण है रजिस्ट्रेशन या पंजीकरण जो कि ठीक से नहीं हो पाता है। जिसके कारण किसानो के पंजीकरण या रजिस्ट्रेशन के फॉर्म सरकार तक नहीं पहुँच पाते है और किसान योजनाओ का लाभ लेने वंचित रह जाते है। लेकिन अब UP Agriculture Portal पर किसान रजिस्ट्रेशन करके एक ही स्थान पर राज्य में संचालित योजनाओं का लाभ एक ही जगह प्राप्त कर सकते हैं।

UP Agriculture

अगर आप भी इस Portal पर अपना पंजीकरण करना चाहते है तो आपको हमारा पूरा लेख पढ़ना होगा। क्योकि जब आप हमारा आर्टिकल पढ़ेंगे तभी आप इस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करने की प्रक्रिया ठीक से सीख पाएंगे। हम आपको अच्छे से समझायेंगे कि आपको कैसे UP agriculture Kisan registration करना है| इसके साथ ही स्टेटस कैसे चेक करना है,लाभार्थी की सूची , (Beneficiary list ),, Implimentation of Up DBT kisan Benefits, DBT Helpline Number क्या है, इस पोर्टल का क्या लाभ , उद्देश्य इन सबकी जानकारी भी बतायेगे|

UP Agriculture क्या है?

यूपी एग्रीकल्चर का आरम्भ उत्तर प्रदेश सरकार ने किसानो के लिए उनका कलयाण और उनको लाभ पहुंचने के लिए किया है। UP Agriculture पोर्टल पर पंजीकरण करके किसान UP DBT kisan Yojana , एफपीओ शक्ति, यूपी सोलर पंप योजना, कृषि सिचाई योजना या कृषि से संबंधित संचालित कोई भी योजना हो उसके बारे में जानकारी प्राप्त करके अपना आवेदन कर सकते हैं। यानी अब प्रदेश के किसानों को अलग-अलग योजना के लिए अलग-अलग पोर्टल पर जाकर रजिस्ट्रेशन नहीं करना पड़ेगा। इसके अलावा यूपी एग्रीकल्चर पोर्टल पर रजिस्टर्ड किसानों को उनकी पात्रता के अनुसार सीधा लाभ दिया जाएगा और DBT स्कीमों के तहत दिए जाने वाली पैसे भी डायरेक्ट उनके बैंक खाते में हस्तांतरित किए जाएंगे। UP Agriculture Portal पर समय-समय पर सेवाओ एवं सुविधाओं की जानकारी भी अपडेट की जाती है।

E Ganna App डाउनलोड कैसे करें

यूपी एग्रीकल्चर का उद्देश्य

यूपी एग्रीकल्चर को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य किसानो को लाभ पहुंचाने और उनके रिकॉर्ड इकठ्ठे करना है। ताकि उन्हें एक ही जगह अनेक सुविधाएं दी जा सके। क्योंकि जब किसानो का सीधा सम्पर्क सरकार से होगा तो किसान भ्रष्टाचार से भी बचेंगे और उनकी सुनवाई डायरेक्ट सरकार से होगी। UP Agriculture पर रिकॉर्ड डिजिटल करके  डाटा को analysis करके सरकार   भविष्य के लिए योजनाए उपलब्ध कराएगी और उनको चलना भी आसान होगा। यूपी एग्रीकल्चर पोर्टल के माध्यम से किसान भी नयी नयी योजनाओ के बारे में अपने कंप्यूटर और मोबाइल फ़ोन पर देख सकेंगे और पंजीकरण कर सकेंगे। किसान इस पोर्टल के माध्यम से अनेक योजनाओ का लाभ डायरेक्ट ले सकेंगे।‌ जिससे किसानो का भविष्य उज्जवल होगा  और राज्य विकास की ओर उन्नत होगा।

अन्य महत्वपूर्ण योजनाओं में लाभ वितरण (Up Agriculture Reports)

अन्य योजनाओ में जिन्हे लाभ प्रदान किये गए है उनकी सूचि आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर प्राप्त कर सकते है।

  • खेत तालाब योजना की भौतिक प्रगति(फोटो सहित)
  • सोलर पंप लाभार्थी सूची
  • जनपद हमीरपुर में जैविक खेती के विकास की योजना
  • पंजीकृत कृषको को डी बी टी के अतिरिक्त अनुदान वितरण सूची
  • कृषि विकास की योजनायें-RKVY(BGREI) योजना की लाभार्थियों की सूची
  • प्रशिक्षित कृषि उद्यमी स्वाबलंबन योजना(एग्रीजंक्शन) की सूची
  • वर्मी कम्पोस्ट योजना हेतु चयनित ग्रामों की सूची
  • प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना में खेत तालाब की भौतिक प्रगति(फोटो सहित)
  • जनपदो में स्थापित एग्रीजंक्शन केन्द्रों के लाभार्थियों का विवरण की सूची

किसान सहायता      

  • अपना पंजीकरण नंबर जानें
  • बीज के लिये पात्रता जानें
  • डी० बी० टी० हेतु अभिलेखों के सत्यापन की स्थिति जानें
  • पहले क्या लिया है जानें
  • सोलर पंप हेतु ड्राफ्ट अपलोड करें
  • कृषि यंत्र व कृषि रक्षा उपकरण हेतु चयन की स्थिति जानें

Note- इस पोर्टल पर पंजीकरण करके आप एक पंजीकरण किसान बन जाएंगे है जिससे सरकार और केंद्र सरकार द्वारा चलायी गयी योजना का लाभ आपको मिलता रहेगा|

eMandi UP

पोर्टल पर नवीन अपडेट

  • पी०एम०कुसुम योजना के बैंक ड्राफ्ट डी०डी० लोगिन से अपलोड करें
  • INSITU यंत्रो की नयी व्यवस्था में अपलोडिंग की प्रगति रिपोर्ट
  • Bill Monitoring System – Directorate of Agriculture
  • कृषि यंत्रों के DBT की प्रगति (सोलर पंप के अतिरिक्त)
  • सोलर पंप लाभार्थी चयन सत्यापन प्रगति
  • किसान सहायता
  • सुझाव एवं शिकायतें
  • IFSC कोड खोंजे
  • यंत्रों की भौतिक लक्ष्य की चयन के सापेक्ष प्रगति रिपोर्ट
  • द मिलियन फारमर्स स्कूल (किसान पाठशाला) प्रतिभागी कृषक सूची
  • मृदा स्वास्थ्य कार्ड अनुश्रवण तंत्र
  • प्रमोशन ऑफ एग्रीकल्चर मैकेनाइजेशन फार इन – सीटू मैनेजमेंट ऑफ क्राप रेजिड्यू योजना अन्तर्गत कृषि यंत्रों का विवरण
  • 35 कॉलम की लाभार्थीवार रिपोर्ट
  • डी० बी० टी० के माध्यम से वितरित अनुदान के लाभार्थियों की विस्तृत सूची
  • फार्म मशीनरी बैंक के लिए समूह पंजीकरण की सूची
  • उद्यान ए़वं खाद्य प्रसंस्करण विभाग उत्तर प्रदेश की योजनाओं के लिए पंजीकरण
  • ग्राम स्तर पर स्थानीय उद्यमियों के द्वारा मृदा परीक्षण प्रयोगशाला की स्थापना हेतु आवेदन
  • CRM Implements Empanelment
  • मिनी किट रिपोर्ट
  • बीजग्राम योजना सीड नेट रिपोर्ट
  • प्राकृतिक खेती हेतु लाभार्थी सूची
  • प्राकृतिक खेती हेतु समीक्षा रिपोर्ट
  • प्राकृतिक खेती हेतु ट्रेनिंग रिपोर्ट
  • प्राकृतिक खेती हेतु फार्मर्स फील्ड स्कूल (FFS)रिपोर्ट

पोर्टल पर नवीन सूचनायें

  • कोषागार के नए फॉर्मेट पर DDO लॉग इन में बेनेफिसिअरी फाइल जनरेट करने के लिए Both के विकल्प पर जाकर जनरेट बेनेफिसिअरी फाइल new format (Green Tab)चुनें |
  • चार जनपद शामली,श्रावस्ती,हापुड़ तथा संभल जिनका कोषागार खाता इलाहबाद बैंक में है वे कोषागार के नए फॉर्मेट पर DDO लॉग इन में बेनेफिसिअरी फाइल जनरेट करने के लिए Both के विकल्प पर जाकर जनरेट बेनेफिसिअरी फाइल new format (Blue Tab) चुनें |
  • DBT सम्बन्धी समस्या समाधान के लिए DBT पोर्टल पर “सुझाव एवं शिकायतें” में “कृषि विभाग के अधिकारियों के लिये” लिंक उपलब्ध “ऑनलाइन समस्या निवारण प्रणाली” पर अनुरोध पत्र भेजें| इसके लिये लॉग-इन आई०डी० एवं पासवर्ड उप कृषि निदेशक को उपलब्ध कराया गया सी.यू.जी. लॉग-इन आई०डी० एवं पासवर्ड ही होगा |

Up Agriculture Registration के लाभ

  • किसानो को यूपी एग्रीकल्चर से बहुत लाभ मिलेगा। सरकार के पास किसानो के अकाउंट का डाटा होगा , जिसमे उसकी ज़मीन की जानकारी ये सारी चीज़े  सरकार के पास रिकॉर्ड रहेगी। जिससे किसानो के अकाउंट में सरकार डायरेक्ट पैसा भेज सकेगी।
  • मौसम के बदलाव होने पर सरकार किसानो को सतर्क भी करती रहेगी। जिससे उनकी ज़मीनो को नुकसान जो होगा वो होने से थोड़ा बच जायेगा। क्योकि किसान पहले से ही सतर्क हो जायेंगे।
  • यूपी एग्रीकल्चर पोर्टल के ज़रिये बहुत कार्य आसानी से हो जायेंगे और किसानो को एक साथ योजनाओ का लाभ पहुंच जाएगा|
  • इस पोर्टल के माध्यम से किसान सरकार तकअपनी कोई भी शिकायत दर्ज करा सकते है जो कि डायरेक्ट सरकार के पास पहुंचेगी |
  • यह पोर्टल ऑनलाइन होने के कारण सरकार ने किसानो को बहुत सुविधाएं प्रदान की है जिसमे किसानो के ऑनलाइन कार्य का अपना स्टेटस चेक कर सकते है।

upagriculture.com पर रजिस्ट्रेशन कैसे करे? 

अगर आप किसान पोर्टल में अपना रजिस्ट्रेशन करना चाहते है तो आप यूपी एग्रीकल्चर पोर्टल की वेबसाइट पर विजिट करके इसमें अपना पंजीकरण करा सकते है उसके लिए आपको मेरे आर्टिकल को स्टेप by स्टेप फॉलो करना होगा| 

यूपी एग्रीकल्चर पर रजिस्ट्रेशन करें
  • इसके बाद आपको Online registration का लिंक दिखाई देगा जो right corner में होगा। आपको इस लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • जिसके बाद पोर्टल पर up agriculture registration page खुलेगा।
  • वहाँ आपको पंजीकरण करने के कुछ option दिखाई देंगे। ये ऑप्शन कृषि विभाग की योजनाओं हेतु, उद्यान  विभाग की योजनाओं हेतु, गन्ना विभाग की योजनाओं हेतु होंगे।
  • आप जिसके योग्य है उसका चुनाव करे और लिंक पर क्लिक करे। जिसके बाद आपके सामने एक पंजीकरण फॉर्म खुलेगा।
  • अपनी personal जानकारी registration के समय सही से भरे।
  • बैंक खाते की जानकारी जैसे IFSC code ,Branch आदि सही enter करे और मोबाइल नंबर वही भरे जो आपके पास रहता हो।
  • आवेदन फार्म में पूरी जानकारी भरने के बाद फार्म को सब्मिट करे।
  • जिसके बाद आपका Up agriculture department के पास आपका डेटा पहुंच जायेगा और आपका किसान रजिस्ट्रेशन हो जायेगा|
  • रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक नंबर दिया जायेगा। ये यूपी किसान रजिस्ट्रेशन नंबर है इसे आप भविष्य के लिए संभाल कर रख ले।

UP Agriculture पर टोकन जनरेट कैसे करें?

  • किसान भाई को सबसे पहले UP Agriculture की Official Website पर जाना है।
  • इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुल जाएगा।
  • वेबसाइट के होमपेज पर आपको यंत्र/ खेत तलाब पर अनुदान हेतु टोकन निकाले के विकल्प पर क्लिक करना है।
upagriculture.com पर टोकन जनरेट करें
  • अब आपके सामने अगला पेज खुलकर आ जाएगा।
  • इस पेज पर आपको यंत्र हेतु टोकन की व्यवस्था देखने को मिलेगी। इस पेज पर आपको दिए गए यंत्रों हेतु टोकन जनरेट करें के विकल्प पर क्लिक कर देना है।
  • इसके बाद फिर से आपके सामने एक ओर नया पेज खुलकर आ जाएगा।
  • इस पेज पर आपको मालूम की गई सभी जानकारी जैसे- जनपद, पंचायत संख्या आदि का चयन करना है।
  • फिर सर्च के विकल्प पर क्लिक कर देना है।
  • अब आपको अपनी आवश्यकतानुसार किसी एक यंत्र के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपको आगे बढ़े के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • इस तरहां से आप टोकन जनरेट कर सकते हैं।

UP Agriculture Status चेक करने की प्रक्रिया

  • आवेदक किसान को सबसे पहले आपको यूपी एग्रीकल्चर पर जाना होगा।
  • इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुलकर आ जाएगा।
  • वेबसाइट के होमपेज पर आपको पंजीकरण की प्रगति के विकल्प पर क्लिक कर देना होगा।
  • इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुलकर आ जाएगा। 
  • इस पेज पर आपको अपनी किसान पंजीकरण संख्या दर्ज करके कैप्चा बॉक्स में कैप्चा विवरण को दर्ज कर देना होगा
  • अब आपको सर्च के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • जैसे ही आप सर्च के विकल्प पर क्लिक करेंगे आपके सामने आपके आवेदन की स्थिति खुलकर आ जाएगी।

लाभार्थियों की सूची देखने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको यूपी एग्रीकल्चर की अधिकारिक वेबसाइट पर जाना है।
  • फिर आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुलकर आ जाएगा।
  • वेबसाइट के होमपेज पर आपको लाभार्थियों की सूची के विकल्प पर क्लिक कर देना है।
  • अब आपके सामने अगला पेज खुल कर आ जाएगा।
लाभार्थियों की सूची
  • इस पेज पर आपको मदवार, योजना वार, वर्ष वार सम्रग, सीजन वार, संस्था वार, सोलर की योजनाओं हेतु, उद्यम विभाग की योजनाओं हेतु, अन्य विभाग योजना हेतु के विकल्प दिखाई देंगे।
  • इसके बाद आपको अपनी आवश्यकतानुसार विकल्प पर जाकर वर्ष, समस्त मौसम और समस्त विवरण का चयन करके सूची देखे के विकल्प पर क्लिक कर देना है।
  • अब आपके सामने लाभार्थियों की सूची खुलकर आ जाएगी।

UP Agriculture पर अपने पंजीकरण संख्या कैसे जाने?

  • यूपी एग्रीकल्चर की अधिकारिक वेबसाइट पर जाना है।
  • अब आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुलकर आ जाएगा।
  • वेबसाइट के होमपेज पर आपको अपना पंजीकरण नंबर जाने के विकल्प पर क्लिक कर देना है।
  • इसके बाद आपके सामने एक पेज खुलकर आ जाएगा। इस पर आपको अपना पंजीकरण नंबर जाने के विकल्प पर क्लिक करना है।
पंजीकरण नंबर जाने
  • जिसके बाद आपके सामने एक फॉर्म खुलकर आ जाएगा। जिस पर आपको जनपद, ब्लॉक, कृषक, किसान की आईडी, मोबाइल, नंबर खाता संख्या आदि दर्ज करना है।
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आपको सर्च के विकल्प पर क्लिक कर देना है।
  • अब आपके सामने आपकी पंजीकरण की संख्या खुलकर आ जाएगी।

हेल्पलाइन डिटेल्स (Helpline Details)

यदि आप पोर्टल के संबंध में कोई साहयता चाहते है तो आप नीचे दिए गए हेल्पलाइन नम्बरों और ईमेल एड्रेस पर मेल कर सहायता प्राप्त कर सकते है।

  • पंजीकरण तथा DBT हेल्प लाइन नम्बर: 7235090578, 7235090574. 6392175756 (भूमि संरक्षण से सम्बंधित)
  • Email- [email protected]
  • Email- [email protected] (भूमि संरक्षण से सम्बंधित)
Updated: September 6, 2023 — 11:18 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *