मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना 2022: आवेदन प्रक्रिया, लाभ व पात्रता

दोस्तों इस वक्त पूरी दुनिया में सड़क दुर्घटना की वजह से मृत्यु हो जाने वाले नागरिकों की संख्या भारत में सबसे ज्यादा है। इसका मुख्य कारण दुर्घटनाग्रस्तो को सही समय पर अस्पताल ना ले जाना है। इसी बिंदु को ध्यान में रखते हुए राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने राज्य में मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना का शुभारंभ किया है। इस योजना के द्वारा से सड़क दुर्घटना में घायल हुए नागरिक को अस्पताल पहुंचाने वाले को सम्मान के रूप में 5000 रुपये का इनाम पुरस्कार के रूप में दिया जाता है। साथ ही उन्हें प्रशस्ति पत्र भी दिया जाता है। इस योजना की विशेषता यह है कि भारत देश के किसी भी राज्य का नागरिक राजस्थान में सड़क हादसे में घायल हुए नागरिक को अस्पताल पहुंचाता है।

तो वह इस योजना के तहत इनाम राशि प्राप्त करने का हकदार होगा। तो भाइयों आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के द्वारा से Mukhyamantri Chiranjeevi Jeevan Raksha Yojana 2022 से संबंधित सभी जानकारी को प्रदान करेंगे। यह भी पढ़ें- आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड

मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना

Mukhyamantri Chiranjeevi Jeevan Raksha Yojana 2022

राजस्थान राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 16 सितंबर को मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना को आरंभ किया था। इस योजना के तहत राजस्थान में सड़क हादसे में घायल हुए नागरिकों को जो लोग अस्पताल पहुंचाते हैं। उन्हें सम्मान के रूप में 5000 रुपये का इनाम एवं एक सशस्त्र पत्र दिया जाता है। इसके अलावा घायल व्यक्तियों को अस्पताल पहुंचाने वाले से पुलिस पूछताछ भी नहीं करेगी। प्रदेश सरकार का Mukhyamantri Chiranjeevi Jeevan Raksha Yojana को शुरू करने का मुख्य लक्ष्य एक ही है। कि सड़क हादसे में घायल हुए नागरिकों को जल्द से जल्द अस्पताल पहुंचाया जा सके। ताकि उन्हें सही समय पर इलाज मिल सके। और उनकी जान बच सकें। क्योंकि डब्ल्यूएचओ की एक रिपोर्ट के मुताबिक अगर सड़क दुर्घटनाओं में घायल होने वाले नागरिकों को सही समय पर इलाज दिया जा सकेगा। तो 50 फीसद सड़क दुर्घटनाओं से होने वाली मौतों से बचा जा सकता है।

मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना

मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना 2022 हाइलाइट्स

योजना का नाममुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना
शुभारंभ किया गयामुख्यमंत्री अशोक गहलोत के माध्यम
उद्देश्यसड़क दुर्घटनाग्रस्त घायल को जल्द से जल्द अस्पताल पहुंचाया जा सके
लाभार्थीसड़क दुर्घटनाग्रस्त घायल को अस्पताल पहुंचाने वाले लोग
आरंभ दिनांक16 सितंबर
साल2022
राज्यराजस्थान
योजना श्रेणीराज्य सरकारी योजना
इनाम राशि5000 रुपये और प्रशस्ति पत्र
आवेदन प्रक्रियाऑफलाइन
इनाम प्राप्त करने हेतु संपर्क करेंकैजुअल्टी मेडिकल ऑफिस

पुरस्कार प्राप्त करने हेतु कैजुअल्टी मेडिकल ऑफिसर से करना होता है संपर्क

अगर राजस्थान में कोई नागरिक सड़क दुर्घटना में घायल हुए व्यक्ति को अस्पताल लेकर जाता है। एवं उसका इलाज करवाता है। तो उस नागरिक को Mukhyamantri Chiranjeevi Jeevan Raksha Yojana के तहत पुरस्कार राशि प्राप्त करने के लिए इस बात की पूरी जानकारी कैजुअल्टी मेडिकल ऑफिसर को देनी होगी। सीएमओ द्वारा व्यक्ति का नाम, सही पता, मोबाइल नंबर एवं बैंक डिटेल्स प्राप्त की जाएगी। सभी जानकारी प्राप्त करने के पश्चात इस बात की पुष्टि की जाती है। कि घायल व्यक्ति को किस अस्पताल लाया गया है उसकी हालत गंभीर है या नहीं। या उसे इलाज मिला या नहीं आदि। यदि क्लेम करने वाले नागरिक की सभी बातें सही होती है। तो इस स्थिति में सीएमओ द्वारा उसे 5 हजार रुपये की पुरस्कार राशि और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया जाता है।

प्रधानमंत्री समग्र स्वास्थ्य योजना

Chiranjeevi Jeevan Raksha Yojana Objective (उद्देशय)

भाइयों जैसा कि आप सभी जानते हैं कि हमारे देश में ज्यादातर देखा गया है कि जब सड़क दुर्घटना होती है तो वहां पर मौजूद लोग दुर्घटना में घायल हुए लोगों को कानूनी कार्रवाई के डर से अस्पताल ले जाने से बचते हैं। इसी बात को ध्यान में रखते हुए राजस्थान सरकार द्वारा अपने राज्य में मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना को आरंभ किया गया है। इस योजना के द्वारा से सड़क दुर्घटना में घायल हुए नागरिकों को सही समय पर अस्पताल पहुंचाने वालों को 5000 रुपये और प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाता है। सरकार के माध्यम प्रदान की जाने वाली 5000 रुपये की राशि उन्हें सम्मानित करते हुए इनाम के रूप में दी जाती है। Chiranjeevi Jeevan Raksha Yojana को शुरू करने का प्रमुख उद्देश्य यही है कि सड़क दुर्घटना में घायल नागरिकों को जल्द से जल्द वहां पर मौजूद व्यक्तियों द्वारा समय पर अस्पताल ले जाया जा सके।

मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना के लाभ (Benefits)

  • Mukhyamantri Chiranjeevi Jeevan Raksha Yojana का फायदा उन नागरिकों को मिलेगा।
  • जो राजस्थान में सड़क दुर्घटना में घायल होने वाले व्यक्तियों को अस्पताल तक पहुंचाएंगे।
  • अब राजस्थान में सड़क दुर्घटना के समय घायलों को अस्पतालों तक पहुंचाने वालों को किसी भी कानूनी कार्रवाई का सामना नहीं करना पड़ेगा।
  • दुर्घटनाग्रस्त व्यक्तियों को जल्द से जल्द अस्पताल ले जाया जा सकेगा।
  • जिससे उन्हें सही समय पर उपचार मिल सकेगा।
  • एवं उनकी जान बच सकेगी।
  • मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना के द्वारा सड़क हादसे में घायल होने वाले व्यक्तियों को अस्पताल तक पहुंचाने पर 5000 रुपये की इनाम राशि एवं एक सर्टिफिकेट दिया जाता है।
  • एंबुलेंस, पुलिस की पीसीआर, वैन और ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी को इस योजना का लाभ नहीं मिलता है।
  • यह योजना राज्य में सड़क दुर्घटना के कारण बढ़ती हुई मृत्यु दर को भी कम करने में सहायता करेगी।

राजस्थान CM हेल्पलाइन नंबर

Mukhyamantri Chiranjeevi Jeevan Raksha Yojana Qualities (विशेषताएं)

  • राजस्थान राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 6 सितंबर 2021 को मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना का शुभारंभ किया था।
  • इस योजना के द्वारा से राज्य में सड़क हादसों में घायल हुए नागरिकों को मदद करने वालों को पुरस्कार (इनाम) राशि दी जाती है।
  • यह इनाम राशि 5000 रुपये की होती है।
  • जिसके साथ एक प्रशस्ति पत्र भी विवरण किया जाता है।
  • इस योजना की सबसे बड़ी विशेषता यह है।
  • कि भारत देश के किसी भी राज्य का नागरिक राजस्थान में सड़क हादसे में घायल हुए नागरिक को अस्पताल पहुंचाता है।
  • तो वह इस योजना के तहत इनाम राशि प्राप्त करने का हकदार होगा।
  • अब राज्य में सड़क दुर्घटना होने पर वहां पर मौजूद नागरिक बिना किसी कानूनी डर के घायलों को बेफिक्र होकर अस्पताल तक पहुंचा सकते हैं।

Chiranjeevi Jeevan Raksha Yojana Eligibilities (पात्रता)

  • भारत देश के किसी भी राज्य का नागरिक राजस्थान में सड़क हादसे में घायल हुए व्यक्ति को अस्पताल पहुंचाता है।
  • तो वह इस योजना के तहत इनाम राशि प्राप्त करने का पात्र है।
  • सरकारी/प्राइवेट एंबुलेंस, पुलिस की पीसीआर, वैन और ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी इस योजना का फायदा उठाने के पात्र नहीं है।

राजस्थान विकलांग स्कूटी योजना

मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना के तहत आवेदन करें

  • प्रथम आपको सड़क दुर्घटना में घायल हुए नागरिक को अस्पताल पहुंचाने के पश्चात संबंधित अस्पताल में तैनात कैजुअल्टी मेडिकल ऑफिसर को अपनी पूरी एवं सही जानकारी दर्ज करवानी होगी।
  • आपको अपना नाम, पता, मोबाइल नंबर और बैंक डिटेल्स दर्ज आदि की जानकारी भरवानी होगी।
  • आपकी सभी जानकारी दर्ज करने के पश्चात सीएमओ अस्पताल में लाए हुए घायल व्यक्ति के इलाज के अनुसार एक रिपोर्ट तैयार करेंगे।
  • कि व्यक्ति को जब अस्पताल लाया गया उसकी हालत कितनी गंभीर थी।
  • उसे तुरंत इलाज मिला या नहीं।
  • और उसकी अब क्या स्थिति है आदि।
  • सीएमओ द्वारा तैयार की गई यह रिपोर्ट डायरेक्ट पब्लिक हेल्थ के पास भेजी जाएगी।
  • यदि आपके माध्यम किया गया क्लेम सही पाया जाता है।
  • तो आपको 5000 रुपये की पुरस्कार राशि और प्रशस्ति पत्र दिया जाएगा।
  • पुरस्कार राशि क्लेम अप्रूव होने के 2 दिन के अंदर लाभार्थी के बैंक खाते में हस्तांतरित की जाती है।
  • और प्रशस्ति पत्र लाभार्थी के पते पर स्पीड पोस्ट के द्वारा से भेजा जाता है।
Updated: September 11, 2022 — 4:41 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *